+91-7357771057 Aghori Pawan ji

Contact On: +91-7357771057

My Advice Gives 100% Result Guarantee

Whatsapp On: +91-7357771057

Get in touch with Aghori Pawan Ji to let your life move on the right track

Ask Any One Question Free Of Cost Or If You Want Full Remedies For Your Life Problems You Can Direct Call To Mahakali Jyotish darbaar1
देर ना करे ! कोई समस्या है तो तुरंत उसके समाधान के लिए से संपर्क करे  क्यूंकि! जितना आप देर करेंगे या जितना आप सोचेंगे समस्या आपकी उतनी ही बढ़ेगी तो सोच क्या रहे हो ! अभी कॉल करो और अपनी प्रेम समस्या का समाधान प्राप्त करो वो भी केवल कुछ घंटो में

A To Z समस्याओ का समाधान, माता – बहने निःसंकोच फोन करे ! भटको चाहे जिधर काम होगा इधर ! लव मैरिज, मन चाहा वशीकरण, जादू टोना, विदेश यात्रा में रूकावट, गृह कलेश, पति – पत्नी मे अनबन, सौतन व दुश्मन से छुटकारा, मुठकरनी ऐवम अन्य समस्या का तुरन्त समाधान।

Aghori Pawan Ji Maharaj

Aghori Pawan Ji is a well-known astrologer for a long time. Today he has become famous among the people just for the works that he has done. He is a well-experienced astrologer who has done a lot to help every person. He has made astrology such familiar among the people as they now do not have any dilemma related to this. It is never too tough for a person to do use astrology. He learns about astrology so that he can serve everyone. His services are best to be used by a person. His services are quite well and even affordable also. No person ever lacks in getting the desired solution.

Aghori Pawan Ji has a powerful solution to any problem of a person. One must come to him with their birth details. Everything becomes well for a person with this. His experience made him that popular even celebrities also come to him. He won awards just for the work that he is doing to save people from problems. People feel blessed as they not even have to pay much to get the desired result. His knowledge about the planets makes a person to end their troubles. He can make life good.

How to learn Nadi Astrology in Hindi

How to learn Nadi Astrology in Hindi +91-7357771057 Aghori Pawan ji The astrological discipline which was born by Lord Shankar’s Gana River is known as Nandi Nadi Jyotish (Nandi Nadi Astrology). Nandi Nadi Astrology (Nandi Nadi Astrology) is basically more popular and prevalent in South India. In astrology, astrologers make fruit by writing the future written on the coordination sheet (Nandi Nadi astrology writes on Tada letter). It is a serious style of astrology.

Method of Nadi Astrology (How Nandi Nadi Astrology Works)
With the pulse astrology method, when you go to the astrologer to know your future, first mark your right hand child and the left hand cap of women. After this some palm leaves are placed in front of you and you are asked the first and last word of the name. Some other questions and the name of the parent or wife is matched with the name of the palm leaf that matches your name. Astrologers read the pieces of Hasteli with which it is sold, and make your future statement.

Specialty of Nadi Astrology (characteristic of Nandi Nadi Astrology)
If you know your date of birth, birth constellation, war, lagna, then you are easily getting a palm leaf. This method is good for those whose date of birth and time of birth are not known. How to learn Nadi Astrology in Hindi

If you also know your date of birth and time of birth, then you too can know your horoscope by this method. From this plaintiff you can also know what is your date of birth and time of birth (you can also know your date of birth and time of birth). Another main feature different from other astrology method is that other astrology method has twelve bhavas called fadisha whereas Nandi Nadi astrology method has sixteen bhavas (Nandi Nadi astrology has 16 houses).
them too
Moon as special factor in horoscope chart
Hori chart in third house
Value and honor on the stock chart
Ascending pattern in hori chart
Know about your life from the horror chart How to learn Nadi Astrology in Hindi

Nandi Nadi astrology also mentions events that occur in the day and at certain times. The truth of the Panchag can also be examined by considering the events occurring at certain times. If you compare the pulse obtained from other astrological processes with the Nandi Nadi astrology method, you can get definite information of future events.

Belief has been given the most importance in pulse astrology. If you depend on pulse astrology, then you should know the feet of the future by this method. If you know the agony of plans through this method, then you have to follow the remedies which consider it to be true. According to the assumptions, if the specified remedy is not distrusted, the agony of the plans may increase. How to learn Nadi Astrology in Hindi

Results of each house in Nadi astrology:
The first bhava means lagna bhava gives a brief description of body, health and 12 bhavas. The second house describes topics related to wealth status, family status and education and vision. The third house gives information about variables and siblings. Mother’s happiness is also celebrated from fourth house including property, house and vehicle. The fifth house is the child’s home which gives information related to the child. From the seventh house it is known about diseases and enemies.

The seventh house denotes spouse and marriage. The eighth house tells about the age and situation in life, accident. The ninth house denotes religion, ancestral happiness and destiny. The tenth describes success and failure in household loans and businesses. Each other gets married in the eleventh house. Dwadash bhava gives knowledge about meditation, moksha and rebirth. How to learn Nadi Astrology in Hindi

There are four additional manifestations in pulse astrology, in which prenatal actions and remedies for liberation are known. The fourteenth house gives information about measures to avoid the enemy and chanting the appropriate mantra. Gives knowledge about diseases of the fifteenth house and their treatment. From the sixteenth house, the plan is believed to result in state, mood, and Mahadasha.

How to learn Nadi Astrology in Hindi

ज्योतिषीय अनुशासन जो भगवान शंकर की गण नदी द्वारा पैदा हुआ था, उसे नंदी नाड़ी ज्योतिष (नंदी नाड़ी ज्योतिष) के रूप में जाना जाता है। नंदी नाड़ी ज्योतिष (नंदी नाड़ी ज्योतिष) मूल रूप से दक्षिण भारत में अधिक लोकप्रिय और प्रचलित है। ज्योतिष में, ज्योतिषी समन्वय पत्र पर लिखे गए भविष्य को लिखकर फल बनाते हैं (नंदी नाड़ी ज्योतिष टाडा पत्र पर लिखते हैं)। यह ज्योतिष की एक गंभीर शैली है।

नाड़ी ज्योतिष की विधि (नंदी नाड़ी ज्योतिष कैसे काम करता है)
नाड़ी ज्योतिष पद्धति के साथ, जब आप अपना भविष्य जानने के लिए ज्योतिषी के पास जाते हैं, तो पहले अपने दाहिने हाथ के बच्चे और महिलाओं के बाएं हाथ की टोपी को चिह्नित करें। इसके बाद कुछ ताड़ के पत्ते आपके सामने रखे जाते हैं और आपसे नाम का पहला और अंतिम शब्द पूछा जाता है। कुछ अन्य प्रश्न और माता-पिता या पत्नी के नाम का ताड़ के पत्ते के नाम से मिलान किया जाता है जो आपके नाम से मेल खाता है। ज्योतिषी हस्तीली के टुकड़ों को पढ़ते हैं जिसके साथ इसे बेचा जाता है, और अपना भविष्य कथन करें। How to learn Nadi Astrology in Hindi

नाड़ी ज्योतिष की विशेषता (नंदी नाड़ी ज्योतिष की विशेषता)
यदि आप अपनी जन्मतिथि, जन्म नक्षत्र, वार, लग्न जानते हैं, तो आपको आसानी से एक ताड़ का पत्ता मिल रहा है। यह विधि उन लोगों के लिए अच्छी है जिनके जन्म की तारीख और जन्म का समय ज्ञात नहीं है।

अगर आप भी अपनी जन्मतिथि और जन्म का समय जानते हैं, तो आप भी इस विधि से अपनी कुंडली जान सकते हैं। इस वादी से आप यह भी जान सकते हैं कि आपकी जन्म तिथि और जन्म का समय क्या है (आप अपनी जन्म तिथि और जन्म का समय भी जान सकते हैं)। अन्य ज्योतिष पद्धति से अलग एक और मुख्य विशेषता यह है कि अन्य ज्योतिष पद्धति में बारह भाव हैं जिन्हें फदिशा कहा जाता है जबकि नंदी नाड़ी ज्योतिष पद्धति में सोलह भाव हैं (नंदी नाड़ी ज्योतिष में 16 घर हैं)।
उन्हें भी
कुंडली चार्ट में विशेष कारक के रूप में चंद्रमा
तीसरे घर में होरी चार्ट
शेयर चार्ट पर मूल्य और सम्मान
होरी चार्ट में आरोही पैटर्न
जानिए हॉरर चार्ट से आपके जीवन के बारे में How to learn Nadi Astrology in Hindi

नंदी नाड़ी ज्योतिष में दिन में और निश्चित समय पर होने वाली घटनाओं का भी उल्लेख है। निश्चित समय पर होने वाली घटनाओं पर विचार करके पंचाग की सच्चाई की भी जांच की जा सकती है। यदि आप नंदी नाड़ी ज्योतिष पद्धति से अन्य ज्योतिषीय प्रक्रियाओं से प्राप्त नाड़ी की तुलना करते हैं, तो आप भविष्य की घटनाओं की निश्चित जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

नाड़ी ज्योतिष में विश्वास को सबसे अधिक महत्व दिया गया है। यदि आप नाड़ी ज्योतिष पर निर्भर हैं, तो आपको इस विधि से भविष्य के पैरों को जानना चाहिए। यदि आप इस विधि के माध्यम से योजनाओं की पीड़ा को जानते हैं, तो आपको उन उपायों का पालन करना होगा जो इसे सत्य मानते हैं। मान्यताओं के अनुसार, यदि निर्दिष्ट उपाय अविश्वास नहीं है, तो योजनाओं की पीड़ा बढ़ सकती है।

नाडी ज्योतिष में प्रत्येक घर के परिणाम:
पहले भाव का अर्थ है लग्न भाव शरीर, स्वास्थ्य और 12 भावों का संक्षिप्त विवरण देता है। दूसरा घर धन की स्थिति, पारिवारिक स्थिति और शिक्षा और दृष्टि से संबंधित विषयों का वर्णन करता है। तीसरा घर चर और भाई-बहनों के बारे में जानकारी देता है। संपत्ति, घर और वाहन सहित चौथे घर से भी माँ की खुशियाँ मनाई जाती हैं। पंचम भाव बच्चे का घर है जो बच्चे से संबंधित जानकारी देता है। How to learn Nadi Astrology in Hindi

सातवें घर से यह बीमारियों और दुश्मनों के बारे में जाना जाता है। सप्तम भाव जीवनसाथी और विवाह को दर्शाता है। अष्टम भाव जीवन में आयु और स्थिति, दुर्घटना के बारे में बताता है। नवम भाव धर्म, पैतृक सुख और भाग्य को दर्शाता है। दसवां घर के ऋण और व्यवसायों में सफलता और विफलता का वर्णन करता है। ग्यारहवें घर में एक-दूसरे की शादी हो जाती है। द्वादश भाव ध्यान, मोक्ष और पुनर्जन्म के बारे में ज्ञान देता है।

नाड़ी ज्योतिष में चार अतिरिक्त अभिव्यक्तियाँ हैं, जिसमें प्रसव पूर्व क्रियाएं और मुक्ति के उपाय जाने जाते हैं। चौदहवें घर दुश्मन से बचने के उपाय और उपयुक्त मंत्र का जाप करने के बारे में जानकारी देता है। पंद्रहवें घर के रोगों और उनके उपचार के बारे में ज्ञान देता है। माना जाता है कि सोलहवें घर से, राज्य, मनोदशा और महादशा में परिणाम होता है।

love solution specialist
online love problem solution
breakup problem solution

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *